You are here

Speech of the Hon'ble Lt. Governor Delhi on the occasion of 71st Republic Day of India

Date: 
Sunday, January 26, 2020

भारत के 71 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के माननीय उपराज्यपाल का संबोधन

 

प्रिय भाइयों और बहनों,

1. भारत के 71 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर मैं दिल्ली के सभी निवासियों एवं समस्त देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देता हूँ। इस अवसर पर मैं पुलिस, सशस्त्र बलों और अर्धसैनिक बलों के सदस्यों को भी बधाई देता हूँ।

2. भारत के लिए गणतंत्र दिवस केवल पर्व ही नहीं, बल्कि सम्मान और गौरव का दिवस है। हर साल गणतंत्र दिवस पर हम संविधान के संस्थापक सदस्यों के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। आज का दिन संविधान के मूल सिद्धांतों के प्रति अपनी निष्ठा को दोहराने एवं सभी के लिए अपनी भारतीयता के celebration का मौका है।

3. संविधान ने देश के सभी नागरिकों को राष्ट्र के विकास में भाग लेने और योगदान देने के लिए समान अधिकार दिए हैं। अधिकार और कर्तव्य एक ही सिक्के के दो पहलू  होते हैं, किसी एक के अभाव में दूसरा नहीं चल सकता। इसीलिए, संविधान ने हमें अधिकारों के साथ-साथ मौलिक कर्तव्यो के पालन की भी सीख दी है। संविधान का पालन करना, राष्ट्र ध्वज और राष्ट्रगान का आदर करना, स्वतंत्रता के लिए राष्ट्रीय आंदोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों का पालन करना, देश की एकता और अखंडता की रक्षा करना, लोगों में भाईचारे और harmony की भावना का संचार करना, धर्म, भाषा, प्रदेश या वर्ग पर आधारित भेदभाव को दूर करना, ऐसी प्रथाएँ जो महिला सम्मान के विरूद्ध हो, उनका त्याग करना, देश की गौरवशाली परम्परा और संस्कृति को बनाए रखना, पर्यावरण का संरक्षण करना, सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा करना, आदि हमारी Fundamental Duties हैं, जिनका पालन करना हम सबकी सांझी जिम्मेदारी है ताकि राष्ट्र के निर्माण में हम अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकें। सभी लोग जितनी सजगता से अपने अधिकारों का ध्यान रखते हैं, आशा करता हूँ कि उसी सजगता से वे अपने कर्तव्यों के प्रति भी जागरूक रहेंगे।

4. Fundamental Duties के पालन से न केवल समाज सशक्त होगा अपितु विकसित भारत के लक्ष्य की भी प्राप्ति हो सकेगी।  यह संदेश जनता तक पहुंचाने के लिए 26 नवम्बर 2019 को संविधान दिवस की 70वीं वर्षगांठ पर भारत के संविधान में निहित आदर्शों के बारे में जागरूकता के लिए पूरे देश में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए जो कि वर्ष भर चलेंगे। 

5.  दिल्ली में बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण संसाधनों की जरूरत दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। हमें इस बढ़ती हुई जरूरत को पर्यावरण के संरक्षण से जोड़कर देखना होगा। इस संबंध में Reduce, Reuse और Recycle का concept एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। यह न केवल resources पर हमारी निर्भरता को कम करेगा बल्कि pollution को रोकने में भी मदद करेगा।

6. हमें दिल्ली को न केवल प्रदूषण रहित करना है बल्कि दिल्ली को स्वच्छ भी बनाना है। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए हमें खुद में भी परिवर्तन लाना होगा। छोटे-छोटे changes जैसे कि सूखे और गीले कचरे को अलग-अलग कर कूड़ेदान में डालना, स्वच्छता का संदेश आस पड़ोस में फैलाना एवं अधिक से अधिक पेड़ लगाना - हमें इन सबको अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करना होगा। मैं दिल्लीवासियों से आग्रह करता हूँ कि दिल्ली को green एवं clean city बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।  यदि हम सब स्वयं को बदलने की प्रतिज्ञा लें तो स्वच्छ व सुन्दर दिल्ली का सपना दूर नहीं है। 

7. इसके अतिरिक्त एक और महत्वपूर्ण मुद्दा है - महिलाओं की सुरक्षा। कोई भी समाज या देश तब तक खुद को सभ्य नहीं कह सकता, जब तक वहाँ महिलाओं को उचित सम्मान, सुरक्षा एवं बराबरी का हक नहीं मिलता है। सभी क्षेत्रों में महिलाओं के लिए गरिमा और सुरक्षा सुनिश्चित करना हम सबका कर्तव्य है।  महिलाओं के लिए एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सभी एजेंसियों और समाज को मिलकर काम करना होगा।

8.  महिलाओं के सम्मान एवं सुरक्षा के संदर्भ में पारिवारिक स्तर पर ही एक solid foundation रखी जानी चाहिए। अतः मैं राजधानी के सभी अभिभावकों से अपील करता हूँ कि वे बच्चों की upbringing में उनमें सामाजिक मूल्यों को विकसित करने पर विशेष ध्यान दें ।

9. हमारा एक और लक्ष्य है, देश में कार्यकुशल, transparent, भ्रष्टाचार-मुक्त और accountable administration उपलब्ध कराना। इसके लिए हमें Digital Mode के अंतर्गत आने वाली सेवाओं को बढ़ाना चाहिए, ताकि Good Governance की तरफ और आगे बढ़ा जा सके। मैं सभी सरकारी कर्मचारियों से भी आह्वान करता हूँ कि वे Public Servant के रूप में अपने कर्तव्यों के प्रति सचेत रहें और पूरी commitment और निष्ठा के साथ कार्य करें।

10. भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, जिसमें राष्ट्र-निर्माण की प्रक्रिया, जनता की भागीदारी द्वारा जनादेश से निर्धारित होती है। नागरिकों के कल्याण हेतु देश के संसाधनों के बेहतर एवं प्रभावी प्रबंधन के लिए जन प्रतिनिधियों का चुनाव, इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम होता है। संविधान ने नागरिकों को अधिकार दिया है कि वे मताधिकार का प्रयोग करके अपने प्रतिनिधियों को चुने एवं विकास प्रक्रिया में भाग लें। हम अभी चुनाव प्रक्रिया से गुज़र रहे हैं तथा 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा के सदस्यों के निर्वाचन हेतु हम अपना मतदान करेगें। मैं दिल्ली के मतदाताओं से उत्साहपूर्वक मतदान करने की अपील करता हूँ। मैं राजनीतिक दलों से भी अपील करता हूँ कि वे चुनाव प्रक्रिया के दौरान सदाचार बनाए रखें और Modal Code of Conduct का पूर्णतः पालन करें। मुझे विश्वास है कि पूरी चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से संचालित होगी।

11.  गणतंत्र दिवस के अवसर पर आइए, आज हम अपने राष्ट्र और अपनी दिल्ली के लिए अधिक से अधिक योगदान देने का संकल्प लें। हम यह प्रण लें कि हम सब मिलकर एक प्रगतिशील और समृद्ध दिल्ली के सपने को साकार करने के लिए अथक प्रयास करेंगे। आज के दिन हम स्वयं को अपने राष्ट्र की प्रगति और समृद्धि के लिए फिर से समर्पित करें। मैं इस दिवस पर सभी स्वतंत्रता सेनानियों और उन सभी शहीदों को नमन करता हूँ, जिन्होंने अपने जीवन को न्यौछावर कर हमें एक सुखमय स्वतंत्र जीवन का मौका दिया। मैं एक बार फिर, इस अवसर पर सभी को अपनी शुभकामनाएं देता हूँ और सभी देशवासियों के जीवन में सुख, शांति एवं समृद्धि की कामना करता हूँ।

 जय हिन्द !